संदेश

अगस्त, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आज़ादी के दिन महात्मा गांधी का संघर्ष,aazadi,gandhi

चित्र
  नया इंडिया                         आज़ादी के दिन महात्मा गांधी का संघर्ष                                                                            डॉ.ब्रह्मदीप अलूने                                                            [लेखक द्वारा लिखित गांधी है तो भारत है का अंश..] महात्मा गांधी ने एक बार प्रार्थना सभा में कहा था कि “मैं जन्म से ही संघर्ष करने वाला हूँ और असफलता को नहीं जानता । ” दरअसल देश के विभाजन का घाव गांधी के लिए असहनीय था लेकिन इसके बाद भी उनके सर्वधर्म समभाव को लेकर प्रयासों में कोई कमी नहीं थी । उन्होंने लंबे संघर्ष के बाद मिल रही आज़ादी के जश्न में शामिल होने से इंकार करते हुए कहा कि वे बंगाल में ही ठीक है और उनकी पहली प्राथमिकता यहाँ जनता के बीच शांति और सद्भाव कायम करना है । भारत को आज़ादी मिली लेकिन गांधी परेशान और बेचैन थे। सांप्रदायिक हिंसा की घृणा और अविश्वास को वे देश के भविष्य के लिए सबसे बड़ी चुनौती के रूप में देख रहे थे। उन्होंने कहा कि”मैंने इस विश्वास में अपने को धोखा   दिया कि जनता अहिंसा के साथ बंधी हुई है।” महात्मा गांधी ने लोगों को

श्रीलंका में भारत की चुनौतियां ,shrilanka,rajpkshe,india

चित्र
  जनसत्ता                              श्रीलंका में भारत की चुनौतियां                                                                                                          ब्रह्मदीप अलूने हिन्द महासागर के सिंहली द्वीप में सिंहली राष्ट्रवाद की राजनीति राजपक्षे परिवार को खूब रास आ रही है । उनका राजनीतिक दल प्रतिद्वंदी दलों को बहुत पीछे छोड़ते हुए अब श्रीलंका की सर्वोच्च सत्ता पर काबिज हो गया है । क़रीब एक दशक तक देश के राष्ट्रपति रह चुके महिंदा राजपक्षे चौथी बार देश के प्रधानमंत्री बने है जबकि उनके छोटे भाई गोटाभाया राजपक्षे इस समय श्रीलंका के राष्ट्रपति है । दरअसल भारत के इस पड़ोसी देश ने गृहयुद्द और आंतरिक असुरक्षा का सामना लंबे समय तक किया है,लेकिन इस देश से तमिल पृथकतावादी आंदोलन के खत्म होने के बाद यहां की राजनीति की दिशा ही बदल गई है । पिछले कुछ सालों से श्रीलंका में राष्ट्रवाद की लहर चल पड़ी है और बहुसंख्यक सिंहलियों का विश्वास राजपक्षे बंधुओं पर गहरा हुआ है,जिनकी कड़ी नीतियों से तमिल पृथकतावादी आंदोलन को खत्म कर देश को गृहयुद्द की कगार से उबार लिया गया था । इस समय भी वहां की ज

केमिकल विस्फोट से बढ़ी पर्यावरणीय और आतंकी चुनौती,chamical terrorism lebnan

चित्र
  पत्रिका             केमिकल विस्फोट से बढ़ी पर्यावरणीय और आतंकी चुनौती                                                                               डॉ.ब्रह्मदीप अलूने https://www.patrika.com/opinion/chemical-attack-hazards-6330574/ अशांत समन्दर कब तबाही का मंजर पैदा कर दे यह अकल्पनीय होता है,ऐसा ही कुछ रासायनिक भंडार से उत्पन्न अकस्मात खतरों की भयावहता को लेकर भी है जिसके प्रभावों का अंदाजा लगाना मुश्किल है । दरअसल भूमध्यसागर के पूर्वी तट पर स्थित लेबनान ने करीब 7 सालों से राजधानी बेरुत के पोर्ट पर एक गोदाम में अवैध रूप से पकड़े गए साढ़े सत्ताईस हजार टन अमोनियम नाइट्रेट का भंडार जमा कर रखा था । दुनिया भर में कृषि उर्वरक और विस्फोटक के रूप में इस्तेमाल किया जाने वाला अमोनियम नाइट्रेट इतना खतरनाक होता है कि 100 से 150  किलो की इसकी मात्रा से ही विस्फोट हो जाये तो कम से कम तीन किलोमीटर का पूरा इलाका तबाह हो सकता है। अमोनियम नाइट्रेट एक गंधहीन रसायन है,यह साधारण ताप व दाब पर सफेद रंग का क्रिस्टलीय ठोस है। कृषि में इसका उपयोग उच्च-नाइट्रोजनयुक्त उर्वरक के रूप में तथा विस्फोटकों में

रोम रोम में राम,rom rom me ram

चित्र
     नया इंडिया                                                           रोम रोम में राम                                                                          डॉ.ब्रह्मदीप अलूने इस देश के सर्वमान्य इष्ट पुरुष राम है,अनादिकाल से भारत का जनमानस राम को अपना पूर्वज,निर्माणकर्ता,पालनहार और मार्गदर्शक मानता रहा है । राम नाम का प्रभाव हमारी आदिम संस्कृति पर इतना गहरा रहा है कि आदिवासी इलाकों के घटाटोप जंगल और घुप्प अंधेरे में राम राम से अभिवादन करने पर इसे स्नेह और मित्रता का प्रतीक मानकर डकैत भी लूटने का मन बदल देते है । राम के चरित्र की उच्चता में राजधर्म सदैव लोककल्याणकारी और परोपकारी नजर आता है और यह भावना भारतीय मूल्यों और आदर्शों में भी परिलक्षित होती रही । राजा हरिश्चंद्र का राज पाट छोड़कर जंगल में जाना हो या भीष्म का कर्तव्यपथ में शपथ लेकर आजीवन विवाह न करने की घोषणा में रामराज्य के आदर्शों की उद्घोषणा होती है । भारतीय संस्कृति और सभ्यता के घट घट में राम बसे है और यहां का जनमानस यह बखूबी जानता है कि   राम की अभिलाषा में लोक कल्याण है और उनका उद्देश्य मानवता की रक्षा